मंत्री हेमाराम तो खुलकर मैदान में उतर आए, अब गहलोत का क्या होगा?

मंत्री हेमाराम तो खुलकर मैदान में उतर आए, अब गहलोत का क्या होगा?