Do It Today अब 'काल करे सो आज कर' नाम से हिंदी में | Darius Foroux | Book Cafe EP 471 | Sahitya Tak

काल करे सो आज कर, आज करे सो अब

पल में परलय होएगी, बहुरि करेगा कब.... कबीर ने ये दोहा दशकों पहले कह दिया था. उनका मानना रहा कि जीवन में आलस्य त्याग कर वर्तमान में ही मेहनत कर लेना बेहतर है. यह बात आज भी उतनी ही प्रासंगिक है, जितनी कि उस समय थी. डेरियस फ़रु ने 'Do It Today' नाम से पुस्तक लिखी जो अब 'काल के सो आज कर' नाम से हिंदी में अनूदित हुई है. इस पुस्तक के बारे में स्वयं लेखक ने लिखा है कि आप जो आज कर रहे हैं, वह यह तय करेगा कि आप अगले एक साल, दो साल या दस सालों में कहां होंगे. प्रत्येक दिन हम वह काम करते रहते हैं, जिसे हम करना नहीं चाहते. मैं बिल जमा करने या वॉशरूम साफ करने जैसे कामों की बात नहीं कर रहा हूं. मैं बात कर रहा हूं कि आप अपने अधिकतर समय का कैसे उपयोग करते हैं. वह समय, जो आपके जीवन का ‘हासिल’ है. जीवन में उच्च लक्ष्य हासिल करने और आगे बढ़ने के लिए यह पुस्तक व्यक्तित्व विकास की एक महान पुस्तक है.

'साहित्य आजतक' के 'बुक कैफे' के 'एक दिन एक किताब' कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार जय प्रकाश पाण्डेय ने आज डेरियस फ़रु की इसी पुस्तक 'Do It Today' के हिंदी अनुवाद 'काल करे सो आज कर' की चर्चा की है. इस पुस्तक का हिंदी अनुवाद हेना नक़वी ने किया है. हिन्द पाॅकेट बुक्स द्वारा प्रकाशित इस पुस्तक में कुल 160 पृष्ठ हैं और पुस्तक का मूल्य 250 रुपए है.