Jitendra Mani Poetry | जज़्बा मगर लड़ने का फिर भी कम नहीं! | DCP Delhi Metro | Sahitya Tak

माना की ज़िंदगी के इम्तिहान हैं बड़े

हिम्मत भी तेरे पास कुछ कम नहीं

और आसमान में बिजलियों का कारवां इतना

फ़लक छूने की हसरत फिर भी कम नहीं... देश अपना 74 वां गणतंत्र दिवस मनाने को तैयार है ऐसे में सुनें DCP दिल्ली पुलिस (मेट्रो) जितेन्द्र मणि की यह शानदार कविता सिर्फ़ साहित्य तक पर.