आप जानते है  शारदीय नवरत्रि  क्यों मनाया जाता है ?

   देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग तरीकों से नवरात्रि के पर्व को मनाया जाता है

   पंचांग के अनुसार, 26 सितंबर से शारदीय नवरात्रि की शुरुआत हो रही है, ये पावन पर्व 26 सितंबर से शुरू होकर 04 अक्टूबर तक रहेगा और 5 अक्टूबर को दशहरा मनाया जाएगा.

नवरात्रि के नौ दिनों तक मां दुर्गा के नौ अलग-अलग स्वरूप की पूजा की जाती है.

   एक पौराणिक मान्यता के अनुसार, महिषासुर नाम का एक दैत्य था जिसे ब्रह्मा जी ने अमर होने का वरदान दिया था जिसके बाद वह देवताओं को सताने लगा था.

   महिषासुर के अत्याचार से परेशान होकर सभी देवता शिव ,विष्णु और ब्रह्मा के पास गए.

1   देवताओं की समस्या सुनकर के शिव ,विष्णु और ब्रह्मा ने आदि शक्ती का आवाहन किया . मान्यता के अनुसार शिव  और विष्णु  के मुख से एक तेज प्रकट हुआ जो  नारी के रुप में. बदल गया.

   अन्य देवताओं ने मां दूर्गा को अस्त्र और शस्त्र प्रदान किए । उसके बाद मां दूर्गा ने महिषासुर को ललकारा .

   मां दुर्गा और महिषासुर के बीच नौ दिनों तक युध्द चला चला और दसवें दिन मां दुर्गा ने महिषासुर का वध कर दिया.

   इन नौ दिनों तक रोज देवताओं ने देवी की पूजा आराधना कर उन्हें बल प्रदान किया . उसी समय से नवरात्रि पर्व मनाने की शुरुआत हुई .

Want more stories
like this?