RBI ने डिजिटल रुपये लॉन्च करने की घोषणा की, जानिए कैसे होगा
 इसका इस्तेमाल? 

भारतीय रिजर्व बैंक ने 1 दिसंबर को रिटेल डिजिटल रुपए के पायलट प्रोजेक्ट को लॉन्च करने की घोषणा की है. पायलट प्रोजेक्ट में डिजिटल रुपए क्रिएशन, डिस्ट्रीब्यूशन और रिटेल यूज की पूरी प्रोसेस को परखा जाएगा.

यूजर इसे फोन और डिवाइसेज में डिजिटल वॉलेट में रख सकेंगे. डिजिटल वॉलेट से पर्सन-टु-पर्सन या पर्सन-टु-मर्चेंट ट्रांजैक्शन कर सकेंगे. मर्चेंट को क्यूआर कोड से भी पेमेंट किया जा सकेगा. 

ई-रुपए यानी डिजिटल करेंसी की वैल्यू भी मौजूदा करेंसी के बराबर ही होगी. अगर आप चाहें तो इसे देकर कागजी नोट भी हासिल कर सकते हैं. इसे रखने के लिए बैंक खाते की अनिवार्यता नहीं होगी.

 ई-रुपए का डिस्ट्रीब्यूशन बैंकों के माध्यम से होगा. इस पायलट प्रोजेक्ट के लिए आठ बैंकों को चुना गया है. पहले चरण में SBI, ICICI बैंक, YES बैंक और IDFC फर्स्ट बैंक से होगी.

इसके बाद बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, HDFC बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक
 इस पायलट में शामिल होंगे.

बता दें, RBI ने डिजिटल करेंसी को दो कैटेगरी CBDC-W (होलसेल करेंसी) और CBDC-R (रिटेल करेंसी) में बांटा है. इससे पहले 1 नवंबर को होलसेल ट्रांजैक्शन के लिए डिजिटल रुपये को लॉन्च किया था.

Want more stories
like this?